personality

भारतीय इतिहास के प्रमुख व्यक्ति तथा उनकी पत्नियों के नाम की सूची

अकबर – मरीयम-उज़्-ज़मानी (हरकाबाई) अशोक – करुवाकी, श्रीदेवी औरंगजेब – रबिया दुर्रानी कबीर – लोई कालिदास – विद्योत्तमा ग़ालिब – उमराव बेगम गुरु नानक – सुलक्खनी चंद्रशेखर वेंकट रामन – त्रिलोकसुंदरी जयप्रकाश नारायण – प्रभावती जवाहर लाल नेहरू – कमला नेहरू जहाँगीर – नूरजहाँ, मानभवती, मानमती तुलसीदास – रत्नावली नरेंद्र मोदी – जशोदाबेन चिमनलाल प्रेमचंद… read more »

भारत के प्रसिद्ध व्यक्तियों के नाम और उनके गुरुओं की सूची

अरस्तू – प्लेटो कबीर – रामानंद गोपालकृष्ण गोखले – महादेव गोविंद रानाडे चंद्रगुप्त मौर्य – चाणक्य तुलसीदास – बाबा नरहरि टो – सुकरात बिरसा मुण्डा – आनंद पाण्डेय महात्मा गांधी – गोपालकृष्ण गोखले (राजनीतिक गुरु), श्रीमद राजचंद्र (आध्यात्मिक मार्गदर्शक) मीराबाई – रैदास शिवाजी – कोण्डदेव सिकंदर महान – अरस्तू सुभाषचन्द्र बोस – चित्तरंजन दास सूरदास –… read more »

सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर

सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर खगोल भौतिक शास्त्री थे और सन् 1983 में भौतिक शास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार विजेता भी थे. उनका जन्म वर्ष 19 अक्तूबर 1910 को लाहौर (अब पाकिस्तान) में हुआ था. चन्द्रशेखर की प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा मद्रास में हुई. मद्रास के प्रेसीडेंसी कॉलेज से स्नातक की उपाधि लेने तक उनके कई शोध पत्र प्रकाशित हो… read more »

बौधायन

बौधायन भारत के प्राचीन गणितज्ञ और शुल्ब सूत्र तथा श्रौतसूत्र के रचयिता थे ।ज्यामिति के विषय में प्रमाणिक मानते हुए सारे विश्व में यूक्लिड की ही ज्यामिति पढ़ाई जाती है। मगर यह स्मरण रखना चाहिए कि महान यूनानी ज्यामितिशास्त्री यूक्लिड से पूर्व ही भारत में कई रेखागणितज्ञ ज्यामिति के महत्वपूर्ण नियमों की खोज कर चुके… read more »

डॉ अम्बेडकर के बारे में कुछ जानकारी

डॉ अम्बेडकर का जन्म कब हुआ था?उत्तर- 14 अप्रैल 1891 डॉ अम्बेडकर का जन्म कहां हुआ था ?उत्तर- मध्य प्रदेश इंदौर के महू छावनी में हुआ था। डॉ अम्बेडकर के पिता का नाम क्या था?उत्तर- रामजी मोलाजी सकपाल था। डॉ अम्बेडकर की माता का नाम क्या था?उत्तर- भीमा बाई । डॉ अम्बेडकर के पिता का… read more »

विरुपाक्ष द्वितीय (1465-1485 ई.)

विरुपाक्ष द्वितीय (1465-1485 ई.) संगम वंश का अन्तिम शासक था।मल्लिकार्जुन के उत्तराधिकारी विरुपाक्ष द्वितीय के शासन काल में विजयनगर से गोवा, कोंकण एवं उत्तरी कर्नाटक के कुछ भाग अलग हो गये।ऐसी स्थिति में जबकि, विजयनगर राज्य टूटने की स्थिति में आ गया था, चन्द्रगिरी में गवर्नर पद पर नियुक्त सालुव नरसिंह ने विजयनगर राज्य की… read more »

देवराय द्वितीय

देवराय प्रथम के बाद उसका पुत्र ‘रामचन्द्र’ 1422 ई. में सिंहासन पर बैठा, परन्तु कुछ महीने बाद ही उसकी मृत्यु हो गई।रामचन्द्र के बाद उसका भाई ‘वीरविजय’ गद्दी पर बैठा, लेकिन उसका शासन काल अल्पकालीन रहा।अगला शासक वीरविजय का पुत्र देवराय द्वितीय (1422-1446 ई.) हुआ।देवराय द्वितीय संगम वंश के महान् शासकों में था, उसे ‘इमादि… read more »

देवराय प्रथम (1406-1422 ई.)

देवराय प्रथम (1406-1422 ई.) हरिहर द्वितीय के बाद विजयनगर साम्राज्य का वास्तविक उत्तराधिकारी था।उसे अपने शासन काल में बहमनी सुल्तान फ़िरोजशाह के आक्रमण का सामना करना पड़ा। देवराय को अपने समय में आंतरिक विद्रोहों का भी सामना करना पड़ा था, परन्तु अन्ततः वह इन्हें दबाने में सफल हुआ।फ़िरोज शाह बहमनी से पराजित होने के कारण… read more »

बुक्का द्वितीय (1404-1406 ई.)

बुक्का द्वितीय (1404-1406 ई.), बुक्का प्रथम का पौत्र था। विजयनगर साम्राज्य के राज सिंहासन पर बैठाये जाने के समय उसके भाई विरुपाक्ष प्रथम ने उसका विरोध किया था। बुक्का द्वितीय केवल दो वर्ष तक ही शासन कर सका।

विरुपाक्ष प्रथम (1404 ई.)

विरुपाक्ष प्रथम (1404 ई.) विजयनगर साम्राज्य के हरिहर द्वितीय का पुत्र था।1404 ई. में पिता की मृत्यु के बाद विरुपाक्ष प्रथम ने सिंहासन पर अधिकार कर लिया।राजगद्दी पर अधिकार करने के बाद शीघ्र ही विरुपाक्ष प्रथम अपने ही भाई बुक्का द्वितीय के द्वारा अपदस्थ कर दिया गया। इस प्रकार उसका शासन बहुत ही अल्प कालीन… read more »

हरिहर द्वितीय

हरिहर द्वितीय (1377-1404 ई.) बुक्का प्रथम का पुत्र तथा उत्तराधिकारी था। वह विजयनगर साम्राज्य का दूसरा राजा था। हरिहर द्वितीय सिंहासन पर ‘महाराजाधिराज’ की उपाधि ग्रहण करके बैठा था। उसने साम्राज्य की सीमा दक्षिण में त्रिचनापल्ली तक पहुँचा दी थी। हरिहर द्वितीय ने कनारा, मैसूर, त्रिचनापल्ली, कांची आदि प्रदेशों पर विजय प्राप्त की।बहमनी सुल्तानों के… read more »

बुक्का प्रथम

हरिहर प्रथम का उत्तराधिकारी उसका भाई बुक्का प्रथम (1356-1377 ई.) सिंहासन पर बैठा। उसने मदुरा को अपने साम्राज्य में शामिल किया।सर्वप्रथम बुक्का ने ही बहमनी वंश और विजयनगर साम्राज्य के मध्य बने विवाद के कारण कृष्णा नदी को दोनों साम्राज्य की सीमा माना।बुक्का ने ‘वेदमार्ग प्रतिष्ठापक’ की उपाधि ग्रहण की।उसने वेद और अन्य धार्मिक ग्रन्थों… read more »

हरिहर प्रथम

हरिहर प्रथम (1336-1355 ई.) संगम का पुत्र था। उसने अपने चार भाइयों की सहायता से, जिनमें बुक्कराय प्रथम मुख्य था, 1336 ई. में तुंगभद्रा नदी के दक्षिणी तट पर विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की।विजयनगर साम्राज्य की स्थापना में हरिहर प्रथम को दो ब्राह्मण आचार्यों, माधव विद्याराय और उसके ख्यातिप्राप्त भाई वेदों के भाष्यकार ‘सायण’ से… read more »

बौद्ध धर्म के बारे में संक्षेप में ,प्रश्नोत्तर

1. बौद्ध धर्म के संस्थापक कौन थे ? – गौतम बुद्ध 2. गौतम बुद्ध का जन्म कब हुआ था ? – 563 ई०पू० 3. गौतम बुद्ध का जन्म स्थान का नाम क्या है ? – कपिलवस्तु के लुम्बिनी नामक स्थान 4. किसे Light of Asia के नाम से जाना जाता है ? – महात्मा बुद्ध… read more »

Sidebar