दैनिक समसामयिकी 2 January 2018

1.सबके समझने लायक बनाएं विज्ञान की भाषा : प्रधानमत्री
• प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विज्ञान संबंधी संवाद में बड़े पैमाने पर भारतीय भाषाओं का इस्तेमाल करने की वकालत की ताकि युवाओं में विज्ञान के प्रति लगाव विकसित किया जा सके। उन्होंने कहा कि भाषा को अवरोधक नहीं बल्कि प्रेरक बनना चाहिए।
• प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि देश में हर वैज्ञानिक और अनुसंधानकर्ता को नए भारत के लिए नवाचार और अनुसंधान करना चाहिए।ज्ञान और अनुसंधान का इस्तेमाल जनता के फायदे के लिए करें : कोलकाता में प्रोफेसर सत्येन्द्र नाथ बोस की 125वीं जयंती के समारोहों के उद्घाटन कार्यक्रम को वीडियो-कांफ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि देश के वैज्ञानिकों और अनुसंधानकर्ताओं को अपने ज्ञान और अनुसंधान का इस्तेमाल जनता के फायदे और उनकी सामाजिक-आर्थिक जरूरतों के लिए करना चाहिए।
• मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत बांग्ला में की और राज्य की जनता को नए साल की मुबारकबाद दी।विज्ञान से जुड़े संवाद को बड़े पैमाने पर प्रोत्साहित करें : उन्होंने कहा, युवाओं के बीच विज्ञान की समझ और उसके प्रति प्रेम बढ़ाने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम विज्ञान से जुड़े संवाद को बड़े पैमाने पर प्रोत्साहित करें। इस संबंध में भाषा को अवरोधक नहीं, बल्कि इसे वाहक बनाना चाहिए।
• उन्होंने कहा कि आज की दुनिया में महत्वपूर्ण है कि किसी भी नवोन्मेष या अनुसंधान के अंतिम परिणाम को उसके माध्यम से गरीबों के जीवन पर पड़ने वाले अच्छे प्रभावों के आधार पर आंका जाए।रचनात्मक प्रौद्योगिकी को नई दिशा देनी चाहिए : प्रधानमंत्री ने कहा, हमारे वैज्ञानिकों को अपनी परंपराओं से हटकर, अलग सोच के साथ रचनात्मक प्रौद्योगिकी को नई दिशा देनी चाहिए।
• हमारे अभिनव प्रयास और अनुसंधान के अंतिम परिणाम आम जनता की मदद के लिए केंद्रित होने चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र ने एक अनुसंधान और विकास (आरएंडडी) परियोजना की शुरुआत की है जिसमें सौर ऊर्जा, हरित ऊर्जा, जल संरक्षण और कचरा प्रबंधन जैसे क्षेत्रों में काम कर रहे अलग अलग विज्ञान संगठन शामिल हैं।
• वैज्ञानिक ढांचा प्रणाली बनाने का काम प्राथमिकता में : मोदी ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग बहुस्तरीय परियोजनाओं पर काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि एक वैज्ञानिक ढांचा पण्राली बनाने का काम प्राथमिकता में है। उन्होंने इस लिहाज से स्टार्ट-अप इंडिया और कौशल विकास मिशन जैसी केंद्र की पहलों का जिक्र किया।
• प्रत्येक वैज्ञानिक से कम से कम एक बच्चे को मार्गदर्शन देने का आह्वान करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, इस तरीके से एक एक लाख छात्रों का झुकाव विज्ञान की ओर किया जा सकता है।

2. सऊदी अरब, यूएई में लागू हुआ वैट
• खाड़ी देशों में सोमवार को नए साल की शुरुआत एक नई व्यवस्था से हुई। लंबे समय तक कर-मुक्त कहे जाने वाली खाड़ी देशों में सोमवार से वैट व्यवस्था शुरू की गई है और इसे लागू करने वालों में सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात सबसे पहले हैं।
• सऊदी अरब ने नए साल के मौके पर वैट के अलावा पेट्रोल कीमतों में 127% तक की वृद्धि करके ग्राहकों को एक और झटका दिया है। हालांकि इस वृद्धि की घोषणा पहले से नहीं की गई थी और यह कल मध्यरात्रि से ही लागू हो गई है। चार और खाड़ी देश बहरीन, कुवैत, ओमान और कतर भी वैट लगाने के लिए प्रतिबद्ध हैं लेकिन वह इस पर अगले साल तक निर्णय लेंगे।
• पेट्रोल की कीमतों में सऊदी अरब में यह दो साल में दूसरी वृद्धि है। हालांकि यह अब भी दुनिया में सबसे सस्ते पेट्रोल वाले देशों में से एक है। खाड़ी के तेल उत्पादक देशों ने पिछले दो साल में अपनी आय बढ़ाने और खर्च में सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं।
• इनमें व्यय को कम करना और कर लगाना शामिल है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की घटती कीमतों ने इन देशों के बजट को नकारात्मक तौर पर प्रभावित किया है। अधिकतर सामान और सेवाओं पर पांच प्रतिशत बिक्री कर लगाया गया है और आकलन कर्ताओं का कहना है कि 2018 में इससे दोनों सरकारें 21 अरब डालर तक जुटा सकती हैं जो सकल घरेलू उत्पाद के दो प्रतिशत के बराबर बैठेगा।
• यह देशों अमीर देशों के लिए एक क्रांतिकारी बदलाव है। दुबई ने एक लंबे वार्षिक शापिंग फेस्टिवल का आयोजन किया है जिसका मकसद दुनियाभर से लोगों का अपने खुदरा बिक्री स्थानों या मालों में आमंत्रित करना है।

3. तेहरान में स्थिति बेकाबू : राष्ट्रपति रोहानी की शांति की अपील के बाद भी प्रदर्शन जारी
• ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी की ओर से शांति की अपील किए जाने के बावजूद प्रदर्शनकारियों ने रविवार रात फिर से विरोध प्रदर्शन किया जिसमें चार लोगों की मौत हो गई। विरोध प्रदर्शनों के दौरान अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है। कई दिनों से देश में चल रही अशांति के बीच राष्ट्रपति ने आलोचना के लिए जगह देने का वचन दिया था।
• स्थानीय मीडिया ने सोमवार को यह जानकारी दी।एक स्थानीय सांसद ने बताया, दक्षिण-पश्चिमी इजेह क्षेत्र में दो लोगों को गोली मार दी गई। सोशल मीडिया पर जारी वीडियो में प्रदर्शनकारी देशभर में कई क्षेत्रों को निशाना बनाते हुए देखा गया है।
• स्थानीय सांसद हेदायातोल्लाह खादेमी ने बताया, कुछ अन्य शहरों की तरह इजेह के लोगों ने आर्थिक समस्याओं के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और दुर्भाग्यवश इन प्रदर्शनों में दो लोगों की मौत हो गई और कुछ अन्य घायल हो गए। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि गोली किसने चलाई।
• समाचार एजेंसी के मुताबिक ताकेस्तान शहर में प्रदर्शनकारियों ने एक मदरसे और सरकारी इमारतों को आग के हवाले कर दिया। वहीं सरकारी प्रसारक ने बताया, दोरूद में चुराई हुई एक दमकल गाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने से दो लोगों की मौत हो गई। रोहानी ने कई दिनों से हो रहे प्रदर्शन पर रविवार रात चुप्पी तोड़ी।
• यह विरोध प्रदर्शन साल 2009 के विशाल विरोध प्रदर्शन के बाद इस शासन के लिए इम्तहान साबित हो रहा है।सोशल मीडिया पर मौजूद विभिन्न असत्यापित वीडियो के अनुसार पुलिस ने रविवार शाम तेहरान के इंगेलाब चौक पर प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे और पानी की बौछारों का इस्तेमाल किया।
• पूरे ईरान में चार दिनों में 400 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। रोहानी ने अपने टीवी संदेश में कहा, लोग आलोचना करने के साथ ही प्रदर्शन करने के लिए पूर्णतया स्वतंत्र हैं, लेकिन आलोचना करना, हिंसा करने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने से अलग होता है।
• उन्होंने मैत्रीपूर्ण तरीके से अपनी बात रखते हुए कहा, सरकारी इकाइयों को कानूनी आलोचना और प्रदर्शन के लिए जगह देनी चाहिए। राष्ट्रपति ने पारदर्शिता और संतुलित मीडिया की मांग की है।
• ईरान में हो रहे प्रदर्शन को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, बड़ा प्रदर्शन यह दिखाता है कि लोग बुद्धिमान हो रहे हैं क्योंकि वह समझ रहे हैं कि कैसे उनके पैसे और धन को चोरी करके आतंक पर गंवाया जा रहा है।

4. भारत-पाक ने साझा की परमाणु ठिकानों की सूची
• भारत और पाकिस्तान ने सोमवार को एक-दूसरे को अपने-अपने परमाणु प्रतिष्ठानों और कैदियों की सूची सौंपी। इन प्रतिष्ठानों की सूची का आदान प्रदान नई दिल्ली और इस्लामाबाद में राजनयिक माध्यम से एक साथ किया गया।
• विदेश मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार यह आदान-प्रदान परमाणु प्रतिष्ठानों पर हमला न करने संबंधी समझौते के तहत किया गया है। यह समझौता 31 दिसम्बर 1988 में किया गया था और 27 जनवरी 1991 से अमल में है।
• इसके तहत दोनों देश हर वर्ष एक जनवरी को इस सूची का आदान प्रदान करते हैं। दोनों देशों ने 27वीं बार इस सूची का आदान प्रदान किया है। एक जनवरी 1992 को पहली बार दोनों ने एक दूसरे को अपने परमाणु प्रतिष्ठानों की सूची सौंपी थी।
• दोनों देशों ने एक-दूसरे की जेलों में बंद कैदियों की सूची का सोमवार को आदान-प्रदान किया। विदेश मंत्रालय के अनुसार सूचियों का आदान-प्रदान वर्ष 2008 के समझौते के तहत किया गया है और इन कैदियों में मछुआरों के भी नाम शामिल हैं।
• विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत कैदियों और मछुआरों से संबंधित मामलों सहित सभी मानवीय मुद्दों के समाधान के प्रति वचनबद्ध है। भारत ने पाकिस्तान के 94 मछुआरों और 250 अन्य कैदियों की सूची सौंपी है। भारत ने चार ऐसे मछुआरों तथा 54 अन्य कैदियों की सूची भी पाकिस्तान को दी है जिन्होंने अपनी सजा पूरी कर ली है।
• पाकिस्तान से इनकी नागरिकता की पुष्टि करने के लिए कहा गया है। इसके अलावा हसनैन नाम के एक किशोर को आज पाकिस्तान भेजा जा रहा है क्योंकि उसकी नागरिकता की पुष्टि की जा चुकी है। पाकिस्तान ने भी 399 मछुआरों और 58 अन्य कैदियों की सूची भारत को सौंपी है।
• सरकार ने कैदियों, मछुआरों और लापता जवानों की जल्द रिहाई के लिए भी पाकिस्तान से कहा है। भारत ने कुलभूषण जाधव और कई अन्य कैदियों से राजनयिकों की मुलाकात कराने का मुद्दा भी उठाया है।

5. भारतमाला से निकलेंगे 8 एक्सप्रेस वे

• देश में एक्सप्रेस वे निर्माण का दौर शुरू हो गया है और इसमें भारतमाला परियोजना की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस परियोजना से देश में आठ एक्सप्रेस वे के निर्माण होंगे। इनमें दिल्ली-जयपुर, दिल्ली-अमृतसर-कटरा और कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेस वे शामिल हैं।
• इन नए एक्सप्रेस वे के लिए डीपीआर तैयार किया जाएगा। संभव है कि अगले दो-तीन महीने के भीतर डीपीआर तैयार हो जाएगा। लिहाजा मार्च के बाद नए एक्सप्रेस वे को बनाने की औपचारिकताएं पूरी करने की गतिविधियां शुरू हो जाएंगी। हालांकि कुछ एक्सप्रेस वे परियोजनाओं पर काम चल रहा है और मार्च तक इनमें एक-दो एक्सप्रेस शुरू हो जाएंगे।
• केंद्र सरकार की भारतमाला परियोजना बहुत ही महत्वपूर्ण परियोजना है। इस परियोजना से कई शहरों का कायाकल्प हो जाएगा, जहां से एक्सप्रेस वे और हाइवे निकलेंगे।
• भारतमाला परियोजना के पहले चरण में 24,800 किलोमीटर नेशनल हाइवे का निर्माण किया जाना है और इस पर 5,35, 000 करोड़ रपए खर्च किए जाएंगे। यह परियोजना वर्ष 2017-18 से लेकर 2021-22 तक पूरी हो जाएगी।
• भारतमाला परियोजना के पहले चरण में दिल्ली-जयपुर एक्सप्रेस वे, दिल्ली-अमृतसर-कटरा एक्सप्रेस वे, वड़ोदरा-मुंबई एक्सप्रेस वे, हैदराबाद-विजयवाड़ा-अमरावती एक्सप्रेस वे, नागपुर-हैदराबाद-बेंगलुरू एक्सप्रेस वे, कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेस वे और अमरावती में रिंग रोड एक्सप्रेस वे शामिल हैं।
• इन आठ एक्सप्रेस वे परियोजनाओं में किसी का डीपीआर तैयार हो रहा है तो किसी का भूमि अधिग्रहण और अन्य औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।
• भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) और उत्तर प्रदेश सरकार मिलकर डीपीआर बनाने में लगे हैं। इन एक्सप्रेस वे को बनाने की तैयारी के बीच कुछ एक्सप्रेस वे जल्दी ही तैयार होने की उम्मीद है। इनमें सबसे पहले ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे और वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे होगा।
• यह दिल्ली को जाम से निजात दिलाने वाला है। ये दोनों परियोजनाएं मार्च 2018 तक शुरू हो जाएंगी। यह एनएच-1 और एनएच-2 पर दिल्ली से बाहर से निकल जाएगा। लिहाजा वाहन दिल्ली में आए बगैर अन्य एक-दूसरे राज्यों को चले जाएंगे।
• इसके बाद दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे तैयार हो जाएगा। इसकी अवधि 30 महीने रखी गई है। निजामुद्दीन पुल से यूपी गेट तक रिकार्ड 15 महीने में तैयार हो जाएगा और आगे की परियोजना 15 महीने में पूरी होगी।

6. डोकलाम विवाद सुलझाने वाले गोखले बने विदेश सचिव
• चीन के साथ चले डोकलाम विवाद सुलझाने वाले विजय केशव गोखले को विदेश सचिव नियुक्त किया गया है। चीन पर विशेषज्ञ समझे जाने वाले भारतीय विदेश सेवा (आइएफएस) के वरिष्ठ अधिकारी अब एस. जयशंकर का स्थान लेंगे। मौजूदा विदेश सचिव जयशंकर का विस्तारित कार्यकाल 28 जनवरी को पूरा हो जाएगा।
• सोमवार को नियुक्त किए गए 1981 बैच के अधिकारी गोखले दो वर्षो तक विदेश सचिव रहेंगे। वर्तमान में वह विदेश मंत्रलय में सचिव (आर्थिक संबंध) के रूप में कार्यरत हैं। पिछले वर्ष डोकलाम में 73 दिनों तक भारत-चीन के बीच चले तनाव में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वह 20 जनवरी 2016 से 21 अक्टूबर 2017 तक चीन में भारत के राजदूत रहे थे।
• इसके अलावा वे हांग कांग, हनोई, बीजिंग और न्यूयार्क में स्थित भारतीय मिशन में भी काम कर चुके हैं। वह निदेशक (चीन एवं पूर्व एशिया) और विदेश मंत्रलय में संयुक्त सचिव (पूर्व एशिया) संयुक्त सचिव भी रह चुके हैं।
• प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने विदेश सचिव पद पर गोखले की नियुक्ति को मंजूरी दी थी। इस आशय की जानकारी कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग ने दी है। नियमानुसार विदेश सचिव, रक्षा एवं गृह सचिवों, सीबीआइ और आइबी के प्रमुखों का कार्यकाल दो वर्षो का होता है।

7. इजरायल में मिली 2700 साल पुरानी मुहर की छाप
• इजरायल के पुरातत्व वैज्ञानिकों ने 2,700 साल पुरानी मिट्टी की मुहर की छाप खोजी है। बताया जा रहा है कि यह मुहर यरुशलम के गवर्नर की थी, जिसका उल्लेख बाइबल में भी किया गया है। मुहर की इस छाप को पुराने यरुशलम में स्थित यहूदियों के पवित्र स्थल वेस्टर्न वॉल के करीब खोजा गया।
• सबसे शक्तिशाली स्थानीय पद था गवर्नर का : मुहर की इस छाप पर प्राचीन हिब्रू लिपि में लिखा है, ‘शहर के गर्वनर की संपत्ति।’ उस समय गवर्नर ही यरुशलम में सबसे शक्तिशाली स्थानीय पद हुआ करता था। गर्वनर की तरफ से भेजे जाने वाले हर सामान पर मुहर की छाप मौजूद होती थी।
• आकार एक छोटे सिक्के के बराबर : इस छाप का आकार एक छोटे सिक्के के बराबर है, जिस पर दो व्यक्ति एक-दूसरे की तरफ अपना चेहरा किए खड़े हैं। दोनों ने घुटने तक लंबी धारीदार पोशाक पहन रखी है।
• पुरातत्व वैज्ञानिक श्लोमित वेकलर डोलाह ने कहा, ‘बाइबल में भी राजा द्वारा नियुक्त किए गए यरुशलम के गवर्नर का जिक्र दो बार किया गया है। दो राजाओं के कार्यकाल में जोशुआ ने यह पद संभाला था।’

8. पहली बार विदर्भ बना रणजी चैंपियन
• पहली बार फाइनल खेल रही विदर्भ ने सात बार की चैंपियन दिल्ली को चौथे ही दिन नौ विकेट से हराकर रणजी ट्रॉफी का खिताब जीत लिया। विदर्भ ने पहली बार रणजी ट्रॉफी खिताब जीता है।
• वह यह खिताब जीतने वाली 18वीं टीम बनीं। होलकर स्टेडियम के लिए भी यह एक रिकॉर्ड है, लगातार दूसरी बार रणजी ट्रॉफी फाइनल की मेजबानी करते हुए उसने अप्रत्याशित नया चैंपियन दिया।
• पिछले साल जनवरी में गुजरात ने यह खिताब जीता था। होलकर स्टेडियम एक ही साल में दो रणजी फाइनल की मेजबानी करने वाला पहला मैदान बना गया।
• दिल्ली के पहली पारी में 295 रनों के जवाब में विदर्भ की पारी 547 रनों पर खत्म हुई। जवाब में दिल्ली की दूसरी पारी 280 रनों पर खत्म हुई और विदर्भ को जीत के लिए 29 रनों का मामूली लक्ष्य मिला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *