मुख्य समाचार 28.12.2017

1. यूएन बजट में कटौती से भारत के भी बचेंगे 6.5 करोड़ रुपये

अमेरिका के दबाव में संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के बजट में पांच फीसद की कटौती की गई है। इससे भारत को भी अगले साल अपने अनिवार्य योगदान में से 6.56 करोड़ रुपये की बचत हो सकती है। वर्ष 2017 में यूएन के बजट में भारत ने करीब 131 करोड़ रुपये का योगदान दिया।संयुक्त राष्ट्र महासभा ने क्रिसमस की पूर्व संध्या पर साल 2018 और 2019 के लिए 5.397 अरब डॉलर (करीब 34,616 करोड़ रुपये) के बजट को मंजूरी दी थी। यूएन महासचिव एंटोनियो गुतेरस के प्रवक्ता स्टीफन डुजेरिक ने बताया कि साल 2016 और 2017 के बजट की अपेक्षा इस बार का बजट 1834 करोड़ रुपये कम है। फिलहाल संयुक्त राष्ट्र के बजट में भारत की हिस्सेदारी 0.73 फीसद है।

2. अमेरिका ने उत्तर कोरिया के शीर्ष वैज्ञानिकों पर लगाया प्रतिबंध

उत्तर कोरिया के बैलेस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को आगे बढ़ाने वाले दो वैज्ञानिकों- किम जोंग सिक और री प्योंग चोल पर अमेरिका ने प्रतिबंध लगा दिए हैं। वे अमेरिका से किसी तरह का संबंध नहीं रख सकेंगे। इस बीच रूस ने अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच बढ़ रहे तनाव को कम करने के लिए मध्यस्थता का प्रस्ताव रखा है। उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार और मिसाइल विकास कार्यक्रम के विरोध में संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका उस पर प्रतिबंध बढ़ाते जा रहे हैं।ताजा प्रतिबंधों की घोषणा करते हुए अमेरिका के वित्त मंत्री स्टीवन नूचिन ने कहा, उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार विहीन करने के लिए दबाव बढ़ाने का यह हमारा एक और कदम है। उल्लेखनीय है कि 22 दिसंबर को ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया को पेट्रोलियम पदार्थो की आपूर्ति सीमित की है। ऐसा 29 नवंबर को उत्तर कोरिया के लंबी दूरी के बैलेस्टिक मिसाइल परीक्षण के बाद किया गया।

3.अफगानिस्तान के सीपीईसी से जुड़ने से भारत ना हो परेशान: चीन

चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) से जुड़ने के लिए अफगानिस्तान पर डोरे डाल रहे चीन ने बुधवार को कहा कि भारत को इससे परेशान नहीं होना चाहिए। यह परियोजना भारत के खिलाफ नहीं है। भारत का नाम लिए बगैर चीन ने यह भी कहा कि किसी तीसरे देश को इस महत्वाकांक्षी परियोजना को प्रभावित या बाधित नहीं करना चाहिए।चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने मंगलवार को कहा था कि चीन और पाकिस्तान सीपीईसी से अफगानिस्तान को जोड़ना चाहते हैं। उनका यह बयान पाकिस्तान और अफगानिस्तान के विदेश मंत्रियों के साथ बीजिंग में पहली त्रिपक्षीय बैठक के बाद आया था। अफगानिस्तान ने हालांकि सीपीईसी से जुड़ने पर अभी तक कोई सार्वजनिक घोषणा नहीं की है।

4.Indian Science Congress to be held in March in Imphal

The 2018 edition of the historic Indian Science Congress will be held at Manipur University, Imphal, in March.The event was scheduled at the Osmania University (OU), Hyderabad, in the first week of January but had to be moved out due to “security problems.” This was the first time the 106-year-old ISC — the largest congregation of scientists in India — had to be postponed at the last minute.

5.Israel takes India’s vote in its stride

Israeli Prime Minister Benjamin Netanyahu’s visit to India in a fortnight will focus on taking cooperation on “the double-T’s” of Technology, including on agriculture and water conservation and on (Counter) Terrorism to the “next level”, according to officials familiar with the planning of the visit. They also indicated that Israel’s unhappiness with India’s vote at the United Nations last week had been put behind both countries in a “diplomatic” manner.

SOURCE : JAGRAN and THEHINDU

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *