पूर्वोत्तर विशेष बुनियादी ढांचा विकास योजना

▪ विलियम कैबिनेट ने 2017-18 से उत्तर-पूर्व विशेष बुनियादी ढांचा विकास योजना (एनईएसआईडीएस) की नई केंद्रीय क्षेत्र की योजना को मंजूरी दी। पूर्वोत्तर से मार्च, 2020 तक निर्दिष्ट क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के निर्माण में अंतराल को भरने के लिए केंद्र सरकार द्वारा 100% वित्त पोषित किया जाएगा।

NESIDS की विशेषताएं

▪ ये योजना निम्न क्षेत्रों के तहत बुनियादी ढांचे के निर्माण को व्यापक रूप से कवर करेगी

(i) पानी की आपूर्ति, बिजली, कनेक्टिविटी और विशेष रूप से पर्यटन को बढ़ावा देने वाली परियोजनाओं से संबंधित बुनियादी ढांचा

(ii) शिक्षा और स्वास्थ्य के सामाजिक क्षेत्रों की बुनियादी सुविधा

NESIDS के लाभ

▪ एनईसीआईडीएस के तहत बनाई जाने वाली संपत्ति न केवल पूर्वोत्तर क्षेत्र में शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं को मजबूत करेगी, बल्कि पर्यटन को भी प्रोत्साहित करेगी जिससे स्थानीय युवाओं के लिए रोजगार के अवसर होंगे।

▪ ये योजना आने वाले वर्षों में पूर्वोत्तर क्षेत्र के समग्र विकास में उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगी।

9 गैर लंघन केंद्रीय पूल संसाधन (एनएलसीपीआर) योजना

▪ विलुप्त केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने 90:10 के वित्त पोषण पैटर्न के साथ मार्च 2020 तक मौजूदा गैर लंपट योग्य केंद्रीय पूल संसाधन (एनएलसीपीआर) योजना को जारी रखने के लिए अनुमोदित किया इसमें 5,300 करोड़ रुपये का परिव्यय होगा और चालू परियोजनाओं को पूरा करने में सक्षम होगा।

▪क्या इसका व्यापक उद्देश्य उत्तर पूर्वी क्षेत्र और सिक्किम में आधारभूत संरचना का तेजी से विकास सुनिश्चित करना है ताकि क्षेत्र में विशिष्ट व्यवहार्य बुनियादी ढांचा परियोजनाओं और योजनाओं के लिए बजटीय वित्तपोषण का प्रवाह बढ़ता जा सके।

▪ पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए मंत्रालय (डीओएनईआर) एनएलसीपीआर से बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए विभिन्न पूर्वोत्तर राज्यों को धन आवंटित करता है।

▪उत्तर मंत्रालय दो योजनाओं के तहत धन आवंटित करता है एनएलसीपीआर (राज्य) और एनएलसीपीआर-केन्द्रीय जिसके लिए वार्षिक बजटीय आवंटन सामान्य बजटीय प्रक्रिया में प्रदान किए जाते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *