भारत 2047 तक उच्च मध्यम आय वाली अर्थव्यवस्था होगा: विश्व बैंक

विश्व बैंक ने 04 नवम्बर 2017 को कहा कि सरकार की ओर से सुधार की दिशा में माल एवं सेवा कर (जीएसटी) तथा ऐसे अन्य कदमों की बदौलत भारत वर्ष 2047 तक उच्च-मध्य आय वाली अर्थव्यवस्था बन जाएगा.विश्व बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी क्रिस्टलीना जॉर्जीएवा ने कहा है कि भारत में अगले एक दशक के अंदर घोर गरीबी का नामोनिशान नहीं रहेगा तथा वर्ष 2047 तक भारत उच्च मध्य आय वाला देश हो जाएगा. भारत के ज्यादातर लोग उस समय विश्व के मध्यवर्ग का हिस्सा होंगे.

इससे संबंधित मुख्य तथ्य:

• विश्व बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) क्रिस्टालीना जॉर्जिएवा ने भारत में प्रति व्यक्ति आय बढ़ कर चार गुना होने को एक असाधारण उपलब्धि बताया और इसका श्रेय देश में पिछले तीन दशक के सुधारों को दिया. उन्होंने कारोबार सुगमता रिपोर्ट में 100वां स्थान हासिल करने को लेकर भी भारत की तारीफ की.

• कारोबार सुगमता रिपोर्ट में भारत की रैंकिंग 2016 के मुकाबले वर्ष 2017 में 130 से 100 पर पहुंची है. वहीं वित्तमंत्री का कहना है कि सरकार भारत को टॉप 50 में ले जाने को लेकर प्रतिबद्ध है.

• विश्व बैंक की अधिकारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुधार की कोशिशों की सराहना करते हुए कहा कि जीएसटी ने भारत के सामने एकीकृत समान बाजार के जरिए तेजी से वृद्धि का अनोखा अवसर पैदा किया है.

• उन्होंने कहा कि सुधारों का असर प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर दिखने लगा है. एफडीआई वर्ष 2013-14 के 36 अरब डॉलर से बढ़कर 60 अरब डॉलर हो गया है.

Comments

So empty here ... leave a comment!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Sidebar