होयसल वंश – One Liner

विष्णुवर्धन > वीर बल्लाल > वीर बल्लाल तृतीय > नरसिंह

  • होयसल वंश का प्रारम्भ सन 1111 ई. के आसपास मैसूर के प्रदेश में हुआ।
  • उसने अपना नाम विष्णुवर्धन रख लिया और सन 1141 ई. तक राज्य किया।
  • उसने ‘द्वारसमुद्र’ (आधुनिक हलेविड) को अपनी राजधानी बनाया।
  • वह पहले जैन धर्मानुयायी था, बाद में वैष्णव मतावलम्बी हो गया।
  • उसने बहुत से राजाओं को जीता और हलेबिड में सुन्दर विशाल मन्दिरों का निर्माण कराया।
  • 1110 ई. में विष्णुवर्धन द्वारसमुद्र की राजगद्दी पर आरूढ़ हुआ।
  • वह एक प्रतापी और महत्त्वाकांक्षी राजा था। उसने अपने राज्य को चालुक्यों की अधीनता से मुक्त कर अन्य राज्यों पर आक्रमण भी शुरू किए।
  • दक्षिण में चोल, पांड्य और मलाबार के क्षेत्र में उसने विजय यात्राएँ कीं
  • 1140 में विष्णवर्धन की मृत्यु हुई।
  • होयसल वंश देवगिरि के यादव वंश के समान ही द्वारसमुद्र के यादव कुल का था।
  • इस वंश के राजाओं ने उत्कीर्ण लेखों में अपने को ‘यादवकुलतिलकय कहा है।
  • होयसालों के राज्य का क्षेत्र वर्तमान समय के मैसूर प्रदेश में था और उनकी राजधानी द्वारसमुद्र थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *