देवराय प्रथम (1406-1422 ई.)

देवराय प्रथम (1406-1422 ई.) हरिहर द्वितीय के बाद विजयनगर साम्राज्य का वास्तविक उत्तराधिकारी था।उसे अपने शासन काल में बहमनी सुल्तान फ़िरोजशाह के आक्रमण का सामना करना पड़ा।
देवराय को अपने समय में आंतरिक विद्रोहों का भी सामना करना पड़ा था, परन्तु अन्ततः वह इन्हें दबाने में सफल हुआ।फ़िरोज शाह बहमनी से पराजित होने के कारण देवराय प्रथम ने अपनी पुत्री का विवाह फ़िरोज शाह के साथ कर दिया।इस विवाह में दहेज के रूप में देवराय ने बाँकापुर का क्षेत्र फ़िरोज शाह को दे दिया।देवराय प्रथम ने राज्य में सिंचाई की सुविधा के लिए तुंगभद्रा नदी पर बांध बनाकर नहरें निकलवायीं।उसके शासन काल में ही इटली का यात्री निकोलो कोण्टी 1420 ई. में विजयनगर की यात्रा पर आया था।1422 ई. में देवराय प्रथम की मृत्यु हो गई।देवराय प्रथम के दरबार में प्रसिद्ध तेलुगू कवि ‘श्रीनाथ’ थे।देवराय प्रथम के विषय में कहा गया है कि, “सम्राट अपने राजप्रसाद के ‘मुक्ता सभागार’ में प्रसिद्ध व्यक्तियों को सम्मानित किया करता था”।उसके समय में विजयनगर दक्षिण भारत में विद्या का केन्द्र बन गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *