देशभर में फिर झेलनी पड़ सकती है कैश की भारी किल्लत

रिपोर्ट के मुताबिक नोट की सप्लाई कम किए जाने से पश्चिमी और दक्षिण भारत के राज्यों में नकदी की ज्यादा कमी देखने को मिल रही है। कहा जा रहा है कि सरकारी बैंक से ज्यादा कैश की किल्लत प्राइवेट बैंकों में दिखने को मिल रही है।
नोटबंदी के बाद नोटों को लेकर परेशानी झेलने वाली जनता को एक फिर से नोटों की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है। कैश की कमी की पीछे की वजह है भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा नोटों की सप्लाई को कम कर दिया है। बैंकों में कैश के फ्लो को कम कर देने की वजह से देश के कई शहरों में एटीएम मशीन या तो खाली हैं या उनके शटर गिरे हुए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक आरबीआई ने करीब 25 फीसदी कैश फ्लो को कम कर दिया है। जिसके कारण जनता को नोटों की कमी से जूझना पड़ सकता है।
माना जा रहा है कि आरबीआई ने नोटों की सप्लाई जानबूझकर पूरे प्लान के तहत कम की है। सीएनबीसी-आवाज ने अपने सूत्रों के हवाले से बताया कि दरअसल, नोटबंदी के फैसले के बाद कैश नहीं मिलने के कारण डिजीटल ट्रांजैक्शन के जरिए भुगतान किया जा रहा था। लेकिन, बैंकों में पर्याप्त मात्रा में कैश आ जाने और कैश से लिमिट हटा देने के बाद से डिजीटल ट्रांजैक्शन में गिरावट देखी गई। जिसके चलते आरबीआई ने नोटों की सप्लाई को कम करने का फैसला किया है ताकि डिजीटल ट्रांजैक्शन को फिर से बढ़ावा दिया जा सके। बैंकों में जमा से ज्यादा निकासी की जा रही है। इसके लिए केंद्रीय बैंक को यह कदम उठाना पड़ा।

Source jansatta