1 अप्रैल से नहीं बिकेंगे BS-III व्‍हीकल्‍स, सुप्रीम कोर्ट का आदेश

नई दिल्‍ली. एक अप्रैल 2017 से देशभर में बीएस-3 व्‍हीकल्‍स नहीं बिकेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को यह आदेश दिया। ऑटो मैन्‍युफैक्‍चरर्स की ओर से बीएस-3 व्‍हीकल्‍स की बिक्री में एक साल की राहत देने की पिटीशन पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला सुनाया। ऑटो बॉडी सिआम के अनुसार, कंपनियों के पास करीब 8.2 लाख की इन्‍वेंटरी बीएस-3 व्‍हीकल्‍स की है।

इन दो कंपनि‍यों पर होगा ज्‍यादा असर
सोसाइटी ऑफ इंडि‍यन ऑटोमोबाइल मैन्‍युफैक्‍चरर्स (सि‍आम) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबि‍क, टोटल अनसॉल्‍ड बीएस-3 टू-व्‍हीलर का आंकड़ा 6.71 लाख यूनि‍ट्स है। इसमें से देश की दो बड़ी कंपनि‍यों हीरो मोटोकॉर्प और होंडा मोटरसाइकि‍ल एंड स्‍कूटर्स इंडि‍या का है। टोटल इन्‍वेंटरी में भी इन दो कंपनि‍यों की हि‍स्‍सेदारी 80 फीसदी से ज्‍यादा है। हीरो मोटोकॉर्प के पास करीब 2.90 लाख यूनि‍ट्स अनसॉल्‍ड हैं जबकि‍ होंडा मोटरसाइकि‍ल के पास के करीब 2.50 लाख हैं। वहीं, बजाज ऑटो के पास बीएस-3 नॉर्म्‍स के 80 हजार यूनि‍ट्स हैं। हालांकि‍, दोनों ही कंपनि‍यों ने अपना पूरा प्रोडक्‍शन बीएस-4 पर शि‍फ्ट कर दि‍या है।

क्‍या है मामला?
एन्‍वायरमेंट पॉल्‍यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (ईपीसीए) ने सुप्रीम कोर्ट में यह पिटीशन दायर की थी कि केवल बीएस-4 स्‍टैंडर्ड वाले व्‍हीकल्‍स को ही बेचने की मंजूरी मिलनी चाहिए। इसके खिलाफ ऑटो कंपनियों ने भी कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। ऑटो कंपनियों ने सुप्रीम कोर्ट से बीएस-3 इन्‍वेंटरी को देखते हुए एक साल की मोहलत मांगी थी। इस पर सुनवाई करते हुए शीर्ष कोर्ट ने यह फैसला दिया।

कर्टसी मनीकंट्रोल