चिकनगुनिया के बारे में जानकारी करें – डरे नहीं

चिकनगुनिया के लक्षण –
तेज बुखार, जोड़ों में तेज दर्द, रैशेज या चकत्ते पड़ जाना,तेज सिर दर्द, मांसपेशियों में खिंचाव और दर्द, चक्कर आना और उल्टी महसूस होना भी इस बीमारी के सामान्य लक्षण हैं. अगर ये लक्षण नजर आ रहे हैं तो सबसे पहले किसी अच्छे लैब से ब्लड टेस्ट कराएं और सही जगह रिपोर्ट चेक कराएं.
चिकनगुनिया की जानकारी
चिकनगुनिया एक पीड़ादायक ज्वर है जिसे संधि ज्वर भी कहा जाता है| चिकनगुनिया एक वात दोष है |वात, कफ और पित्त भी बढ़ जाता है| चिकनगुनिया के दौरान निम्न बातों का ध्यान रखे –
1. तरल पदार्थों का सेवन करें
2. मसाज से दर्द से राहत

आयुर्वेदिक दवाएं
आमतौर पर आयुर्वेद में विलवदी गुलिका, सुदर्शनम गुलिका और अमृतरिष्ठाव दिया जाता है। पहले किसी अनुभवी आयुर्वेदिक विशेषज्ञ से परामर्श करना आवश्‍यक है।

प्राकृतिक जड़ी बूटियां
तुलसी, गाजर, अंगूर आदि को चिकनगुनिया और इससे होने वाले दर्द में काफी राहत पहुंचाने वाला माना जाता है।

पाउडर और चूर्ण
योगीराज गुगुलू और सुदर्शन चूर्ण को इस बुखार में काफी उपयोगी माना जाता है। अर्जुन छाल भी इस वायरल काफी लाभदायक मानी जाती है। इसके साथ ही हल्दी, आंवला, लहसुन आदि के पाउडर भी इस रोग से उबरने में सहायता प्रदान करते हैं।